प्रेरणादायक सफलता की कहानीया- Best Motivational Story in Hindi With Moral for success

Hello friends ,आज की ये motivational story in hindi with moral के साथ है |जो बताएगी के हमे अपने काम में हमेशा अपनी skill बढ़ाति रहनी चाहिए । ये motivational story in  hindi है, जो student को भी motivation और inspire करेगी । तो चलिए शरू करते है  short story in hindi



Best Motivational Story in Hindi
Motivational story in hindi for student with moral

उम्र थका नहीं सकती और नही गिरा सकती। अगर दिल मे हो जीतने की चाह तो कोई  परिस्थितियां भी हरा नहीं सकती।

प्रेरणादायक कहानीया- Best Motivational Story in Hindi for success


चंदनकाका की कहानी - motivational story in hindi


Motivational Story in Hindi With Moral :चंदनकाका जो एक Factory में पेड काटने का काम किया करते थे । फैक्ट्री का मालिक सारे मजदूरों के सामने हमेशा चंदन काका की तारीफें करते थे । के वो बहुत अच्छा काम करते है , बहुत अच्छा काम करते है। इस बात से बाकी मजदूरों को अब जलन होने लगी थी । 1 दिन एक नौजवान हट्टा कट्टा मजदूर मालिक के पास आया और बोला कि आप हमेशा चंदन काका की तारीफ ही क्यों करते हो। जबकी वे ताकत में भी हमसे कमजोर है, क्योंकि वह बुजुर्ग हैं। और वो तो दोपहर में आधे घंटे सोने भी चले जाते हैं ।उसके बाद भी आप उनकी तारीफ करते हो। जब कि हम तो लगातार काम करते हैं । तो मालिक ने कहा इस बात से मुजे कोई मतलब नहीं कि कौन कितना आराम करता है,या क्या करता है। मैं तो ये  देखता हूं कि दिन के अंत में सबसे ज्यादा पेड मुझे वो काट कर देते हैं इसलिए उनकी तारीफ करता हु।

अब इस बात पर उस नौजवान को थोड़ा और गुस्सा आया उसने कहा था कि ,मालिक एक प्रतियोगिता करा लीजिए और देखते है,की दिन भर में जो सबसे ज्यादा पेड़ काटेगा वही जीतेगा । मालिक ने का अच्छी बात है । अगले दिन प्रतियोगिता हुई। सब लोग जानना चाहते थे की कोन ज्यादा पेड कटेगा । सब मजदूर रोज से ज्यादा जोश में थे। और सब प्रतियोगिता को जितना चाहते थे। इसीलिए सब ज्यादा पेड़ काट रहे हैं ।लेकिन चंदनकाका रोज की तरह आराम से पेड़ काट रहे है ।आधा दिन होते होते चंदन काका मुश्किल से 4-5 पेड़ काट पाए थे। जबकि बाकियों ने उसे थोड़ा सा ज्यादा काम कर लिया था। सबको लगता तब की आज चंदन काका हार जायगे । उसके बाद भी हाफ टाइम होते ही वह तो आधे घंटे का आराम करने में चले गए जबकि बाकी मजदूरों ने काम बिल्कुल नहीं रोका क्योंकि उनको तो प्रतियोगिता जीतनी थी।

(Motivational story in hindi )जब आधे घंटे बाद चंदनकाका आराम करके कुल्हाड़ी कंधे पर टांग के वापस आए। तो सारे मजदूर उनके बारे में बात कर रहे थे कि,आज चंदनकाका हारेंगे और आज मालिक की गलतफहमी दूर हो जाएगी कि कौन ज्यादा काम करता है । उसके बाद फिर वह अपने काम में जुट गए ।दिन का अंत हुआ सब के पेड़ों की गिनती हो रही थी उस नौजवान के पेड़ों की गिनती हुई पांच, छह ,सात ,आठ, नौ, दस, ग्यारह , सारे लोग तालियां बजाने लगे क्योंकि कोई और तो 10 पेड भी नहीं काट पाया । उस नौजवान ने 11 पेड़ काटे थे। वह भी बहुत खुश था । अब चंदनकाका के पेड़ों की गिनती बाकी थी चंदनकाका के पेड़ों की गिनती हुई तो आठ ,नौ, दस ,ग्यारह और यह 12 ।चंदनकाका ने 12 पेड़ काटे थे। मालिक और खुश हो गया क्योंकि वह अपनी बात को सही साबित कर पा रहा था और चंदन काका को ₹1000 का इनाम दिया प्रतियोगिता जीतने के लिए।


Motivational story in hindi with moral


ए सब कुछ होने के बाद वो नौजवान चंदन काका के पास आया और बोला में अपनी हार मानता हूं, लेकिन आपकी राज बतावो आपकी शारीरिक क्षमता कहा से आती है ।आप तो आधे घंटे आराम भी कर लेते हो फिर भी  हमसे ज्यादा पेड कैसे काट लेते हो । चंदनकाका बोले बेटा बड़ी छोटी सी बात है। जब मैं आधे घंटे का आराम करने जाता हूं ना तब मैं अपनी कुल्हाड़ी की धार तेज करता हु । जिससे बचे हुए समय में कम मेहनत करके ज्यादा पेड़ काट पाऊंगा ।

Best Motivational story in hindi
Best Motivational Story In Hindi

कहानी की सिख  : 

Moral of hindi motivational story

  • ये motivational story हम सबमे भी जो skill है हमारे फील्ड में जो हम काम करते हैं वह हमारी कुल्हाड़ी है । अपनी कुल्हाड़ी को तेज करके हमें पेड़ काटना है ।मतलब अपना काम करना है ।
  • भले ही हम कितने निपुण  कितने ही टॉप क्यों ना रहे हो किसी जमाने में। लेकिन वक्त के साथ अपनी skill को बढ़ाना चाहिए ।
  •  तभी आप लगातार नंबर वन की position पर सरवाइव कर पाएंगे।

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

इसे भी पढ़िये -5 Best पागलपन -short success motivational stories in hindi

संघर्ष का फल -Motivational story in hindi with moral


आज अगर आपने किसी से कहा है। कि आपका बहुत बुरा वक्त चल रहा है। इससे बुरा टाइम आज तक आपकी लाइफ में नहीं आया। तो आप अपना ये बुरा वक्त कैसे बदलेंगे?तो ये कहानी आप केलिए है।


Motivational Story in Hindi
 Motivational Story in Hindi 

Motivational story in hindi -एक बार एक मूर्तिकार जंगल से जा रहा था।उसको गांव में जाकर मंदिर के लिए मूर्ति बनानी थी।जो गांव के लोग अपने मंदिर में स्थापित करने वाले थे।वह जंगल से जा ही रहा था, कि उस मूर्तिकार को एक सुंदर पथ्थर दिखा। उसके दिमाग मे विचार आया कि अगर इस पथ्थर से मूर्ति बनाई जाइये तो बेहद ही सुंदर बनेगी। और वह वहीं रुका और अपना  सामान निकालने लगा। फिर वह पत्थर पर प्रहार करने वाला था कि पत्थर से आवाज आई, रुको महेरबानी करो मुझ पर प्रहार मत करो।मुझे छोड़ दो आगे बढ़ जाओ। मूर्तिकार एक बार तो डर गया कि जंगल में कहा से आवाज आ रही है? फिर उसने थोड़ा सोचा कि क्या करूं |चलो छोड़ देता हु, आगे कोई और पथ्थर आएगा तो मूर्ति बना लूंगा।और वह आगे बढ़ गया। जंगल में थोड़ा आगे निकला ही था कि  उसे एक और पत्थर दिखाई दिया जो कि बेहद हि सुंदर था।उसने मूर्ति बनाने के लिए सामान निकालना शुरू किया फ़ीर धीरे धीरे  पत्थर पर प्रहार करने लगा।और थोडी देर में ही उस पथ्थर में से सुंदर मूर्ति बनादी।

वह मूर्ति बहुत भारी थी वह अकेला उसे नही उठा सकता था। उसके लिए तीन चार लोगों की जरूरत थी।उसने सोचा गाव में जाकर लोगों को लेकर के आऊंगा और मूर्ति ले जाऊंगा। जंगल पार करके मूर्तिकार गांव में पहुंचा। तब गांव वालों ने कहा कि तुम्हारा ही इंतजार था। मंदिर बन चुका है ? मूर्ति की जरूरत है। मूर्ति की स्थापना करनी है। मूर्ति बना दो जिस के बाद हम उसे मंदिर में स्थापित कर सके। तब मूर्तिकार ने कहा जरूरत क्या है मूर्ति बनाने की। मूर्ति तो बना कर के आया हूं। जंगल में तीन चार लोग मेरे साथ चलो मूर्ति लेकर आते है, मेने जंगल मे एक सुंदर मूर्ति बनाकर ही रखी है, मूर्ति भारी होने के कारण में अकेले उसे यहां नही ला सका। लोग मूर्तिकार के साथ जंगल में गए और मूर्ति लेकर आये फिर गांव में धूमधाम से मूर्ति स्थापना की गई।

फिर लोको ने कहा नारियल फोड़ने किये भी एक बड़े पथ्थर की जरूरत होगी। तब मूर्तिकार ने कहा कि जंगल।मे एक और बहुत ही सुंदर पथ्थर है।वह नारियल फोड़ने के काम आ सकता है। यह सुनकर तीन चार लोग जंगल गए और वह पथ्थर लेके आये जिस से मूर्तिकार पहले मूर्ति बनाना चाहता था। अब दोनों पत्थर जो जंगल में थे।अब वे दोनों  एक ही जगह पर आ गए लेकिन अफसोस एक पत्थर की पूजा की जा रही थी। आरती की जा रही थी। वही दूसरे पत्थर पर नारियल फोड़े जा रहे थे। जिस पर नारियल फोडे  जा रहे थे उस पत्थर ने जिसकी पूजा की जारी थी उस पत्थर से पूछा तुम्हारे तो बड़े मजे चल रहे है। तुम्हारी पूजा  की जा रही है, आरती हो रही है,तुम्हे तो बहुत ही मजा आ रहा होगा । तब मूर्ति बने हुवे पथ्थर ने कहा कि तुमने भी अगर उस दिन पहला प्रहार सहे लियां होता तो आज तुम्हारी  पूजा की जा रही होती।

कहानी की सीख 

Motivational srory in hindi
  • जिंदगी में संघर्ष तो आएंगे ही और सच मानो तो इसी संघर्ष के कारण हमें कामियाबी अच्छी लगती है।
  • ये संघर्ष का दौर है वह भी चला जाएगा।अपनी जिंदगी को इन समस्याओं के दबाव में आकर मत जिओ।
  • बल्कि इन समस्याओं का सामना करो।और अपनी मंज़िल हासिल करने के लिए संघर्ष करना अनिवार्य है।
  • तो आप भी उस ईंट की तरह जो गर्मी में तपकर बेहत ही मजबूत हो जाती है।और घर बनाने के काम आती है जो कि कई सालों तक वैसी की वैसी रहती है,बन जाये अपने जीवन मे आनेवाली समस्याओ का मुकाबला कीजिये।फिर देखिए मंज़िल आपके कदमो में होगी।

--------------------------------------------------------------------------------


समस्या का समाधान गौतम बुद्ध -Student Moral Story In Hindi 

Best Motivational Story in Hindi
 best Motivational Story in Hindi 

ये Motivational Story in Hindi With Moral :एक बार किसान अपनी जिंदगी में बड़ा परेशान था |उसके क्षेत्र में  कभी ज्यादा बारिश होती थी,तो फसल बर्बाद हो जाती थी। तो कभी कम बारिश होती थी, तो फसल बर्बाद हो जाती थी। वह कभी खेत से परेशान रहता था ,तो  कभी अपने घर से परेशान रहता था। उसके घर में बीवी से झगड़ा होता रहता था, तो सोचा था कि शादी नहीं होती बीवी  नहीं होती तो ज्यादा अच्छा रहता। कभी बच्चों पर गुस्सा करने लगता नाराज हो जाता था । फिर बाद में उसको लगता कि मैंने फालतू गुस्सा किया ,बड़ा चिड़चिड़ा सा रहेता था। 


Inspirational Story In Hindi  


Inspirational के लिए लोगो ने बताया पूजा हवन करवा लो सब ठीक हो जाएगा।तो उसने हवन भी करवाया,जिस दिन हवन हुवा उस दिन सब ठीक रहा।लेकिन बाद में फिर वही पहले की तरह गुस्सा करने लगे और चिड़चिड़े से रहेने लगे। तब लोगो ने बताया की पास के गांव में गौतम बुद्धा आये हैं। उनसे जाकर के मिल लो वह तुम्हारी समस्या का समाधान कर देंगे।उसको भी यह सुजाव पसंद आया।वह अगले ही दिन वहा पहुच गया।

गौतम बुद्ध के पास जाकर  प्रणाम कर के बोला की महाराज बड़ी दूर से आया हूं ।आप मेरी समस्या का समाधान कर दीजिए। गौतम बुद्ध ने पूछा कि आपकी समस्या क्या है? तो किसान के पास  तो अपनी समस्याओं की  लंबी सूची थी।उसने चालू कर दिया कि कई बार मेरी  फसल बर्बाद हो जाती है। यह हो जाता है, वह हो जाता है, खाने पीने की कई बार दिक्कत हो जाती है। घर परिवार में दिक्कत होती है।घर मे बच्चे और बीवी के साथ झगडे भी होते है। मुझे लगता है कि शादी नहीं होती तो अच्छा होता।  बच्चों पर गुस्सा करता हूं। वह किशान बोलता चला गया गौतम बुद्ध शांत थे, जब किसान ने सारी बात बोल दी तो उसे लगा कि अब शायद गौतम बुद्ध कुछ बताएंगे।

Hindi motivational story :लेकिन गौतम बुद्ध कुछ नहीं बोले तो किसान ने फिर से पूछ लिया कि महाराज मैं इतनी दूर से आया हूं। अपनी समस्या बता रहा हूं, आप मुझे समाधान दीजिए। तो गौतम बुद्ध ने कहा कि मैं आपकी मदद नहीं कर सकता।जैसे गौतम बुद्ध ने यह कहा तो किशान दया याचना करने लगा और कहने लगा कि में बहुत दूर से आया हु। लोगों ने कहा है कि आप मेरी मदद करेंगे।कृपया आप मेरी बात का समाधान कीजिये मेरी मदद किजिए।

तब बुद्ध ने कहा  समस्याएं हर किसी की जिंदगी में आती है तुम्हारी जिंदगी में भी आई है।और हर किसी की जिंदगी में आएगी इसको हम आने से रोक नहीं सकते। यश सुनकर वह किशान गुस्सा हो गया और बोला ये क्या फालतू बात आप मुझे समजा रहे हो। में आपसे समस्याओ का समाधान लेने आया हु न कि ये सब सुनने। आपसे अच्छे तो पुराने वाले महात्मा थे। बाबा जी ने हवन करवा दिया, पूजा करवा दी। तब गौतम बुद्ध ने पूछा कि उससे क्या आपकी जो समस्याएं खत्म हो गई?तो किसान ने कहा कि खत्म तो नहीं हुई लेकिन कुछ दिन के लिए घर में सुख शांति थी। फिर वापस सब कुछ ऐसे ही चलने लगा। गौतम बुद्ध ने पूछा कि क्या हमेशा के लिए समस्या खत्म होगई तो किसान ने कहा कि नहीं हमेशा के लिए खत्म नहीं हुई।तब किसान बड़ा निराश हो गया।उदास सा हो गया |


ये भी पढिए :Best Motivational story in hindi PDF download-भगवान की फोटो


गौतम बुद्ध ने कहा कि निराश मत हो उदास मत हो तुम्हारी सब समस्याओं का हल में नहीं दे सकता।लेकिन एक समस्या का हल मैं तुम्हें जरूर दूंगा ।तो उसके सामने कहा कि कोनसी समस्या का हल आप बताएंगे?तब बुद्ध ने कहा कि यह समस्या वह समस्या है, की तुम्हे लगता ही कि समस्या नहीं आएगी।जिस दिन तुम यह सोचना बंद कर दोगे की समस्या नहीं आएगी।उस दिन से समस्याएं कम होने लग जाएंगी |हर किसी की जिंदगी में समस्या का आना निश्चित है।


गौतम बुद्ध ने कहा जब तुम्हारी यह समस्या खत्म कर दोगे तो बाकी समस्या अपने आप कम होंने लगेगी।बुद्ध ने उसे समझाया कि समस्या तो आएगी तुम इससे डरो मत बल्कि डटकर  के मुकाबला करो।जब वह अपने गांव वापस गया और तो  उसकी जिंदगी में बदलाव आने लगा वह शांत रहने लगा जिंदगी में धीरे धीरे समस्याएं कम होने लगी। किशान को अपनी समस्याओं के समाधान मिलने लगे।


गौतम बुद्ध-कहानी की सीख 

Moral of this motivational story


  • Motivation of story यह छोटी सी कहानी हमे शिखाती है कि हर किसीकी जिंदगी  Problem तो आएंगी और उसका सामना करना पड़ेगा 
  • अगर आगे बैठना है और टीके रहना है। योद्धा बनना पड़ेगा डटकर के सामना करना पड़ेगा ।मुकाबला करना पड़ेगा, अगर हम यह सोच कर के बैठे कि कुछ भी समस्या नहीं आने वाली सब कुछ आसानी से  होने वाला है। 
  • तो ये बिलकूल गलत है, हर एक कामियाब इंसान के जीवन मे समस्या तो होती ही है। जीवन कभी किसी के लिए आसान  नहीं रहा है। हर किसी को मेहनत करनी पड़ी है काम करना पड़ा है।
  •  परिश्रम करना पड़ता है, जरूरत है सिर्फ समस्याओ के प्रति अपना नजरिया बदलने की फिर देखो जिंदगी कितनी हसीन और सुंदर दिखती हैं।




आशा करता हु आपको ये  motivational story in hindi अच्छी लगी होगी । और आप भी ये story से जरूर  motivation हुवे होंगे। आपको कैसी लगी जरूर बताना comment करके। और आपको ये motivation story with moral अच्छी लगी है तो अपने दोस्तो को भी inapire करे hindi story से और share करे।


आभार धन्यवाद


ए story भी पढ़िये-असल जींदगी- real life Motivational short story in hindi

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां